Monthly Archives: June 2016

Fourth Indian Screenwriters’ Conference (Aug 3-4, ’16)

FB Mast

Dear Writer-Friend!

Greetings from the Film Writers Association!

FWA announces the 4th Indian Screenwriters Conference (4ISC). As you’re aware, this national conference is perhaps the most prestigious, educative and popular event for Indian screenwriters.

(Flashback: The first conference was held at FTII, Pune, in August 2006, attended by 275 writers. The second, at the Indira Gandhi Institute of Development Research, next to Film City, Mumbai, in December 2008; saw 575 screenwriters and writer-directors attending it. 3ISC at St. Andrew’s Auditorium, Bandra, in February 2013, had the participation of 700 screenwriters! To see the pictures of 3rd ISC click here and click here.)

We’re expecting 4ISC to be the biggest yet. The theme of this conference is: ‘SO NEAR, SO FAR: Do Our Stories Reflect India’s Reality?’

While most of the sessions will tackle this theme from different angles, we will also address other issues concerning the profession of screenwriting. The sessions:

  1. LITTLE BIG FILMS

Small films, driven by strong scripts and the passion of the filmmakers, are increasingly ending up as surprise successes. What is the scope and future of such efforts?

  1. SERIAL KILLERS

Does our current TV content reflect our times and society? Why are we stuck in some unchangeable grooves? What is the way out?

  1. WRITERS & PRODUCERS: PARTNERS OR ADVERSARIES?

Writers feel they are undervalued while producers complain of lack of quality scripts. How can this relationship be made more collaborative, more mutual, and more productive for both?

  1. THE FEMININE FACTOR

Are female actors getting better roles now? Is our audience comfortable only with stereotypical women characters? Are we ready to have a more realistic gender equation on screen?

  1. THE DIGITAL EXPLOSION

Is the Internet the answer to our creative and economic issues?

  1. THE BUSINESS OF TV WRITING

The leverage of the TV writer is growing; it appears, with him/her turning into a producer. Is this the model for all TV writers to move towards?

This, and much more, awaits you at 4ISC, with panelists and speakers who’re amongst the most respected and knowledgeable professionals from the entertainment and media industry. We are inviting Javed Akhtar, Gulzar, Siddharth Roy-Kapur, Ronnie Screwvala, Ritesh Sidhwani, Jaideep Sahni, Sriram Raghavan, Vishal Bhardwaj, Juhi Chaturvedi, Jayesh Patil and many more writers and producers to the conference. Confirmations are streaming in quickly. Once the final list is ready, we shall inform you.

Reputed journalist and Ramon Magsaysay awardee, P. Sainath will deliver the keynote address.

Dates: August 3 & 4 (Wed & Thurs), 2016

Timings: 10:00 AM – 6:00 PM (on August 3, a cultural program from 6:30 – 8:00 PM)

Venue: St. Andrew’s Auditorium, Bandra West, Mumbai

This is something which every Indian screenwriter should be interested to participate in. Do mark the dates in your calendar. We shall shortly inform you of the modalities of participation. And, do share the mail with your friends. No one, who wants to attend, should miss out on this!
Here’s the link to…

http://fwa.co.in/blog/delegate-registrations-for-the-4th-isc/

Do spread the word!

Warm regards from the Film Writers Association!

Preeti Mamgain, Zama Habib and Manisha Korde

Conveners and Co-Convener

4ISC Committee, FWA

FWA Website Annual Report 2014-15

Website Annual Report June 14 – July 15

FWA’s Website www.fwa.co.in was launched on 10th June 2014 and was open to general members on 20th June 2014, after successful trials of 10 days.

Since then Website has recorded consistent growth. Beginning with humble 100 odd sessions per day, growing continuously the website today garners approx 500 sessions per day. With recent publications of interesting articles, we even crossed the mark of 1000 sessions in a day. A session is better than normal hit that are merely clicks whereas a session is the time a viewer spends on the website. This indicates we don’t just have casual or accidental visitors but genuine viewers who seriously go through the content and are interested in the affairs in general. On an average, a person spends 5 min or views 5-6 pages per session. So the website attracts 2500 min of focused attention of the audience on any ordinary day.

Our members enjoy reading articles on the site and 1/3rd of the visitors come to read reviews. Some of our reviews have had as high as 5000 readers and an article “Understanding Pitching Process” got 1000 sessions on the very first day of publishing. The cumulative no of the sessions till the date has now crossed 1 lakh with cumulative page views of 4 lakh.

Not only this, the website also excels much above our expectations in terms of business. We started with online registrations and recently began even the online renewals and readmissions on the website. From all accounts, the website has collected whopping Rs. 4.5 lakhs since its launch. This excludes revenue from advertisements / online donations.

The website has evolved in content building, that today we have a facility through which members can directly send their contributions for the website through their personal login dashboards. We have already been receiving members’ contributions and have even published them on the site.

Today the website has also become our digital and global face where we can share news, contributions and interact with our members. Earlier we hardly got 50 people turning up for an FWA event, whereas now with announcements on the website, the entire office falls short – such is the attendance.

FWA.CO.IN is FWA’s virtual office which any member sitting in any remote corner of the World can visit at any hour of day and do any job, check the developments, get updates on associations activities and read interesting stuff. The website has made Sharing & Operations fast, easy and convenient.

As next phase of development, we plan to integrate the office operations with online operations and sync both the systems to allow seamless functioning across different platforms.

 

महाराष्ट्र के दो रत्न – लताजी और सचिन को समर्पित कविता – अमित कुमार

गीतकार – अमित कुमार तिवारी

सुर सम्राज्ञी लता जी ताई *
युग युग जियें आप हमारी बधाई
सचिन सर जी के रिकार्ड अनोखे
भारत रत्न ऐसे ही होते
” ज्योति कलश छलके ” गीत सुनकर
आज भी घरों में सुबह होती
”ऐ मेरे वतन के लोगों ” सुनके
आँखें अश्कों से पलकें भिगोतीं
सोणे सचिन सर जी का सरल स्वभाव
कभी न हुआ किसी से उलझाव
कॉमिडी के नाम पे यारों
फूहड़ता के ना शूल बिखेरो
आत्मसम्मानों पर न आँच आवे
ऐसा कुछ करतब दिखलाओ
पैसा कमाने के खातिर
अभद्रता का न पथ अपनाओ
सस्ती पब्लिसिटी की आजादी
अभिव्यक्ति कहती मैनू बचाओ
ना दोषारोपण ना भाषणबाजी
धूप खिली है बाहर आओ
कुम्हलाये जो फूल मन के
उनमें बिखेरो प्रभात की घूंटी
जैसी संगत वैसी रंगत
सच है कड़वी नींम की बूटी
बाकी सब माया है झूठी
खुल के हँसना सीखो मेरे भाई ।।

*Meaning –   हमारे महाराष्ट्र में ”ताई ” शब्द आदर सूचक ”बड़ी बहन (दीदी) ” के
लिये प्रयोग किया जाता है

** विनम्र आग्रह – यह गीत लिखने में लेखक का तात्पर्य न तो किसी की
भावनाओं को आहत करना है और न ही किसी व्यक्ति / सामुहिक जन भावनाओं को
उकसाना है धन्यवाद.

WRITTEN BY AMIT KUMAR TIWARI
EMAIL –amitapkamitra@gmail.com

तेरी पायल के घुंघरू (गीत) – शशिकांत जुनेजा

तेरी पायल के घुंघरू

वो तेरी पायल की छम छम,

ले गई दम

जिया जलता है, जिया जलता है

हरदम, हरदम

वो तेरी पायल की छम छम……….

चाल वो तेरी मस्ती सी,

निगहें वो तरसती सी

वो तेरी पायल के घुंघरू,

हाय वो घुंघरू की छम छम

ले गई दम

जिया जलता है जिया जलता है,

हरदम,हरदम

वो तेरी पायल की छम छम,…

बदन वो तेरा उठता सा,

साँस हर तेरा रुकता सा

वो तेरी सांसों की सरगम

ले गई दम,

जिया जलता है जिया जलता है

हरदम, हरदम

वो तेरी पायल की छम छम…

तेरा यूँ भाग कर आना,

आ के नैनो का झुक जाना

रुके से तेरे वो कदम

ले गए दम

जिया जलता है जिया जलता है

हरदम, हरदम

वो तेरी पायल की छम छम….

हंसी वो तेरी मस्ती सी,

चीर के दिल को रखती सी

वो तेरे चेहरे की सरगम

ले गई दम

जिया जलता है,जिया जलता है

हरदम हरदम,

वो तेरी पायल की छम छम….

Juneja SHASHI KANT (J Sk)

(Lyricist) Jaipur

शशिकांत जुनेजा

ज़िन्दगी तू (कविता) – Yashu Gaur

तेरी मनमानी अदाओं को समझ नहीं पाता हूँ
ज़िन्दगी तू देती कुछ है मैं कुछ और चाहता हूँ
तोड़ कर मरोड़ कर ख़्वाहिशों के परों को रोज़ ही
पैरों में रौंद ख़्वाबों को मैं जिम्मेदारियां निभाता हूँ
ज़िन्दगी तू देती कुछ है मैं कुछ और चाहता हूँ
क़तरा-क़तरा जोड़ के बनाए ये आशियां मैंने
उड़ने को आतुर मैं इन्हीं मे खुद को कैद पाता हूँ
ज़िन्दगी तू देती कुछ है मैं कुछ और चाहता हूँ
प्यार का व्यापार कर के देखा भी तो क्या पाया
दिलों की सौदेबाजी में नफा दर्द का पाता हूँ
ज़िन्दगी तू देती कुछ है मैं कुछ और चाहता हूँ
वक़्त की ज़ालिम लकीरें खूदबख़ुद खिंच जाती हैं
उम्र्र के निशाँ चहरे पे आइनों में पाता हूँ
ज़िन्दगी तू देती कुछ है मैं कुछ और चाहता हूँ
लौट कर नहीं आता गुज़रा लम्हा इक बार फिर
बीते पलों में क्यूँ तुझे मैं ढूँढता रह जाता हूँ
ज़िन्दगी तू देती कुछ है मैं कुछ और चाहता हूँ
क्या हुआ डूबा है जो ख़्वाहिशों का सूरज बार बार
आँधियों में हाथों तले उमीदों की लौ जलाता हूँ
ज़िन्दगी तू देती कुछ है मैं कुछ और चाहता हूँ
बेवफ़ाई करती है तू मेरी हर आरज़ू – उम्मीद से
सच्चा आशिक़ हूँ मैं भी रोज़ दिल लगाता हूँ
ज़िन्दगी तू देती कुछ है मैं कुछ और चाहता हूँ

Yashu Gaur
yashugaur@gmail.com

यशु गौर

 

ज्योति कलश छलके (गीत समीक्षा) – अमित कुमार तिवारी

गीत ज्योति कलश छलके का एक दृश्य जिसमें मास्टर अज़ीज के साथ अभिनेत्री
मीना कुमारी जी हैं
गीत की दृष्टि से रचना का अवलोकन-
गीत में नरेन्द्र शर्मा जी ने विशुद्ध हिन्दी शब्दों का प्रयोग सुन्दरता
के साथ किया है. कुमकुम, बिरवा, बिन्दु, तुहिन, पात पात जैसे शब्दों से
काव्य को सजाया गया है, गीत प्रमुखतयः से प्रातः काल के सौन्दर्य और
मानसिक सात्विकता का बोध कराता है।
गायन की दृष्टि से अवलोकन –
लताजी ने श्रेष्ठ पार्श्व गायन किया है , गीत सुनने के उपरान्त
शब्दकोश सूची में कोई भी शब्द कम ही मालूम पड़ता है
संगीत की दृष्टि से अवलोकन –
सुधीर फड़के जी ने संगीत की रचना में पारम्परिक संगीत यन्त्रों का प्रयोग
किया है साथ ही उनका संगीत निर्देशन गीत को अविस्मरणीय आयाम प्रदान करता है।

गीत इस प्रकार है –
आअआआ
ज्योति कलश छलके – ४
हुए गुलाबी, लाल सुनहरे
रंग दल बादल के
ज्योति कलश छलके
घर आंगन वन उपवन उपवन*
करती ज्योति अमृत के सींचन
मंगल घट* ढलके* – २
ज्योति कलश छलके
अम्बर कुमकुम कण बरसाये
फूल पँखुड़ियों पर मुस्काये
बिन्दु तुहिन* जल के – २
ज्योति कलश छलके
ज्योति कलश छलके एएएए – २
पात पात बिरवा* हरियाला
धरती का मुख हुआ उजाला
सच सपने कल के – २
ज्योति कलश छलके
ऊषा* ने आँचल फैलाया
फैली सुख की शीतल छाया
नीचे आँचल के – २
ज्योति कलश छलके
ज्योति कलश छलके एएए
ज्योति कलश छलके
ज्योति यशोदा धरती गइयां
नील गगन गोपाल कन्हैया  (दो पंक्तियों में दोहराव)
श्यामल छवि झलके एएएए – २
ज्योति कलश छलके
ज्योति कलश छलके एएएए
ज्योति कलश छलके
(*गीत शब्दार्थः  उपवन – घर , ऊषा – प्रकाश की किरण , बिरवा – पौधा ,
तुहिन – ओस, घट – स्थान अथवा जगह, ढलके – करना)

मास्टर अज़ीज और मीना कुमारी जी का गीत में अभिनय दिलों को छू लेता है
आज भी गीत नित्य सुबह अनेक घरों में सुना जाता है और मन मानस को
प्रसन्नता का आभास कराता है।
गीत समीक्षक – अमित कुमार तिवारी
(गीत की समीक्षा स्वतन्त्र गीत समीक्षक के रूप में की गई है)
amitapkamitra@gmail.com

30 मई २०१६ की सभा के वीडियोस

सोमवार दी 30 मई २०१६ को शेरी नशिस्त और कवि गोष्टी की सभा का आयोजन FWA के कार्यालय में संपन्न हुआ.
इस कार्यक्रम के videos हम यहाँ सांझा कर रहे हैं, कृपया देखें – पसंद आये तो like करें ; ज्यादा पसंद आये तो share भी करें. अगले कार्यक्रम की तारीख़ और वक्त की घोषणा शीघ्र यहीं पर की जाएगी और ईमेल से भी सूचित किया जायेगा.

अहमद निसार

अखिल राज –

अनंत मुटरेजा –

अर्चना पाण्डेय –

हरिश्चंद्र –

जलीस शरवानी –

कमल देव –

मधु श्रृंगी

मंजुलता मोहपात्रा –

नज़र इमानी –

रवि यादव –

रेहान खान –

रेखा बब्बल –

s. पंवार

संगीता सोनी –

सोनभ त्रिपाठी –

सनी चंदेल –

सूरज मुले –

सुरेन्द्र नाथ पाण्डेय –

उषा सक्सेना –

विजेंद्र कुमार सारस्वत –

विपुल जोशी –

यह कार्यक्रम नियमित रूप से प्रति मास चलता रहेगा | कार्यक्रम की सूचना हमारी वेबसाइट पर उपलब्ध होगी तथा ईमेल द्वारा भी आप को सूचित किया जाता रहेगा. श्रोता सदस्यों से निवेदन है कि अधिक से अधिक संख्या में आ कर शेरी नशिस्त और कविता का आनंद लें और कवियों का मनोबल बढ़ा कर कार्यक्रम को सफल बनाएं!

धन्यवाद
भवदीय
जलीस शरवानी
अध्यक्ष

FWA के कवि गोष्टी और शेरी नशिस्त की महफिलों की नयी – पुरानी रिपोर्ट्स और videos. कृपया देखे, like करे, share करे, अपने कमेंट्स हमे भेजे. धन्यवाद, शुक्रिया. http://fwa.co.in/blog/category/newsnnotices/newsnreports/kavigoshti-n-sherinashist/