Monthly Archives: October 2015

19 सितम्बर की शेरी नशिस्त की महफ़िल

अज़ीज़ दोस्तों,

हर महीने के तीसरे शनिवार को कविता और शायरी की महफ़िल की परंपरा आप सभी से सहयोग से काफ़ी सफल साबित हो रही है.

सितम्बर 19 को हुई शेरी नशिस्त की महफ़िल भी हमेशा की तरह कुछ उभरते और कुछ उस्ताद शायरों ने अपनी नज़्मे / ग़ज़ले /शायरी पढ़ी जिनके वीडियोस हम यहाँ साँझा कर रहे हैं – मुलायज़ा फरमाइए.

सभी मेम्बरान से गुजारिश है कि ऐसे ही काव्य-ग़ज़ल की इस महफ़िल में आते रहे जानेमाने शायरों को सुने और उभरते फ़नकारों का हौसला बढ़ाते रहे.

वीडियोस को देखे, मज़ा आये तो like करें, share करें

सविता असीम

सानी असलम

मोहम्मद असलम खान ‘राशिद’

अंजान सागरी

हेमा चंदानी

अनंत कुमार

शुजाउद्दीन साहब

अमरेश कुमार सिंह

भुवन चन्द टमटा

सनी चंदेल

तरुण अग्रवाल

कवि गोष्टी और शेरी नशिस्त का यह मंच FWA के ऑफिस में हर महीने क्रमशः तीसरे शनिवार को आयोजित किया जाता है. इस सभा के अगला चरण में शनिवार दी 21 नवम्बर 2015 को दोपहर 3 बजे कवि गोष्टी की सभा सजेगी. जो मेंबर्स अपनी कविता / गीत पढ़ना चाहे वो अपने नाम FWA कार्यालय में लिखवा दे. कृपया ध्यान रहें समय की कमी के चलते हम केवल पहले दस कवियों को ही अवसर दे पाएंगे.

धन्यवाद

FWA

Sahir Ludhianvi comes alive on his 35th death anniversary

Geographical borders disappear, political differences are forgotten, and old prejudices take a back seat when something extraordinary happens. In today’s world, such occurrences are rare. Hundreds of people from different countries, faiths and political persuasions came together on October 25, 2015, to mark the 35th death anniversary of poet and lyricist Sahir Ludhianvi. Organized by the Sahir Ludhianvi Genius Global Research Council (SLGGRC), the commemoration was an online event hosted on SLGGRC’s Facebook page. Noted Sahir admirers Kewal Dheer (a writer and founder of the Sahir Cultural Academy, Ludhiana), Danish Iqbal (a playwright, actor and producer-director), Simrat Chabra (a noted ghazal singer) and Zamarrud Mughal (a member of Rekhta Foundation, an organization that promotes Urdu literature), and film lyricist Ajay Pandey joined the event through online interviews and video tributes. Mr.Faheem Ahmed, SLGGRC patron and Film Writers Association Member contributed his article on sahir’s poetic excellence through the Arooz (fann-e-shayeri). SLGGRC published exclusive interviews with Har Mandir Singh ‘Hamraaz’, author of Hindi Geet Kosh, a compilation of movie songs since the advent of the talkies, and film-music historian Nalin Shah. Their observations about Sahir’s poetry and personality were well received by members of the group. Pre-published write-ups on Sahir’s work by actress Nargis and scholar Gopi Chand Narang were put up on the SLGGRC wall. The group made its members jog their memories in a six-song quiz: each song dedicated to the six decades of Sahir’s life. Chennai member Asma NA, who named three songs and their movies correctly, was adjudged the winner. The idea had such great resonance that members created their own small quizzes. The icing on the cake was the playing of ‘Main Pal Do Pal Ka Shayar’ in Sahir’s voice at midnight. The mushaira recording had members clamouring for more. On popular demand, ‘Taj Mahal’ and ‘Parchhaiyan’ – again in the poet’s voice – were broadcast.

As the day wound to an end, group members wished it wouldn’t. They paid their tributes to the ‘insaaniyat ka shayar’ (poet of humanity) by sharing videos of his movie songs. Mr Shrish Koyal,(Bengaluru) Mr Chander Verma ( New Delhi) and Dr.Salman Abid (Hyderabad) ( executive members of the Council) moderate the whole sessions in a successful manner.

Submitted by Dr. Salman Abid, Founder (SLGGRC)

 

Recruitment Workshop for Writers at Jio MAMI ’15

Eros International’s Trinity Pictures to hold a recruitment workshop for writers at 17th Jio MAMI Mumbai Film Festival

Mumbai, October 28, 2015:  Leading Indian film studio, Eros International will be holding an open recruitment workshop for aspiring writers at 17th Jio MAMI Mumbai Film Festival’s Mela at Mehboob Studio on Saturday, October 31.

As the Knowledge Partner with the festival, Eros International will hold a Master class session on October 31 at Mehboob Studio, at the Mela with Ajit Thakur, CEO of Trinity Pictures. Trinity Pictures is a wholly owned subsidiary of Eros International that marks the company’s focused production initiatives and endeavor to invest in developing intellectual property in-house. Thakur will speak about the importance of franchise films in India. He will also talk to aspiring writers and directors about potential career opportunities at Eros International.

Trinity Pictures will hold an open recruitment session at the Eros International Stall at the MAMI Mela on Saturday, October 31 at Mehboob Studio where writers looking for a platform can interact with the senior writers from Trinity Writers’ Room and submit their applications. Based on these submissions, the selected candidates will be called in for interviews.

Speaking on the recruitment session, Ajit Thakur, CEO, Trinity Pictures said, “We are happy to join hands with a reputable film festival like MAMI that is known for not only showcasing good cinema but also attracting numerous budding writers and directors. At Eros, we are at a very exciting phase with a rapid expansion of slate of movies over the next few years and we are hoping this acclaimed film festival will turn out to be the relevant platform to seek out talented writers we want to work with”.

Anupama Chopra, Festival Director, 17th Jio MAMI Mumbai Film Festival added, “It’s indeed encouraging that a leading studio like Eros is reaching out to the talented directors and writers associated with MAMI to provide them with such an opportunity to showcase their work”.

KINDLY NOTE – It is expected that only delegates who have registered for the Jio MAMI 17th Film Festival will be admitted to the Workshop. Registrations can be done at any of the counters at the venues viz. PVR Juhu, PVR Andheri, PVR Phoenix, PVR Ghatkopar…
Or you may register online at www.bookmyshow.com
There is a one time Registration Fees of Rs. 1500/- for all 7 days of the Film Festival where internationally acclaimed Indian and Foreign Films will be shown over the week across the above venues.
For more info pl visit http://www.mumbaifilmfestival.com

Special Note – FWA is not associated with this EVENT in any manner whatsoever. So please use your discretion and take the call. We are just sharing this as a matter of interest to Writers. All the best to you.

 

मीटती हुई आरज़ू – Stanish Gill

मीटती हुई आरज़ू ,जलता हुआ आशिया,

यह है मेरी ज़िन्दगी यह है मेरी दास्ता.

मंजीलें और बदती गयी, मैंने जब भी बड़ाए कदम,

साँसों मे हलचल मची, अब घुट रहा है दम ,

जीवन के इस मोड़ पे, दिकता नहीं रास्ता,

यह है मेरी ज़िन्दगी यह है मेरी दास्ता.

जीवन का जो आइना देखा था हमने कभी,

बन के रहा ख्वाब वोह की सबने बेरुखी,

तनहा से हम रह गए कैसा है यह हादसा,

यह है मेरी ज़िन्दगी यह है मेरी दास्ता.

कल तक थे जो अपने आज वोह अजनबी हो गए,

नज़रे  है फेरे हुए किसी और के हो गए,

रखते नहीं वोह अब हम से कोई वास्ता,

यह है मेरी ज़िन्दगी यह है मेरी दास्ता.


By,

Stanish Gill.

9702019206 / 9987413282.

writer.stanish@gmail.com

‘Women in Film’ Conversation at MAMI Film Festival’15

Jio MAMI 17th Mumbai Film Festival with Star India celebrates ‘Women in Film’ on November 3rd

A conversation with the leading women in the world of cinema on November 3rd at PVR Juhu

MUMBAI, OCTOBER 24, 2015 – Jio MAMI 17th Mumbai Film Festival with Star India will feature a discussion on ‘Women In Film’, where leading women from the world of cinema will come together and share their insights and learnings on the experience of being a woman in the field of filmmaking. The panel discussion which will be held on Tuesday, November 3rd at 2 p.m. at PVR Juhu, will see a host of accomplished attendees like Ava DuVernay, Zoya Akhtar, Kiran Rao, Anupama Chopra, Kati Outinen, Jyoti Deshpande, Vidya Balan, Kangana Ranaut and Christina Voros.

This illustrious panel will examine what has changed and what has not for women in the business and celebrate the spirit of equality.

The session will be followed by the premiere of ‘Angry Indian Goddesses’, directed by Pan Nalin, a story which is aptly set around a free-spirited group of women in Goa. The film stars Sandhya Mridul, Tannishtha Chatterjee, Sarah-Jane Dias, Anushka Manchanda, Amrit Maghera, Rajshri Deshpande and Pavleen Gujral.

To attend the festival, viewers can register online at http://in.bookmyshow.com/mami/ or visit registration counters at the festival venues listed above.

नैना – सशांत चतुर्वेदी का गीत

नैनाआअआआआअ

 

वो आये तो खबर देना

वो आये तो खबर देना

भीगे हैं मोरे नैनाआअआआआअ

वो आये तो खबर देना

वो आये तो खबर देना

भीगे हैं मोरे नैनाआअआआआअ

वो उनकी बांसुरी की , वो उनकी कजरी की

वो मेरे लिए सजना …….भीगे हैं मोरे नैना

 

जी से जी हम चुराये , तेरी यादों से हम सताये

ना खुलती हैं मेरी ऑंखें , ना रातों को नींद आये

वो जग जाये तो खबर देना

भीगे हैं मोरे नैनाआआआअ

 

बेक़सूर सा लगा दिल , तेरा नूर सा लगा दिल

नजदीक हो जा मेरे , तकलीफ सा लगा दिल

वो नजर आये तो खबर देना

भीगे हैं मोरे नैनाआआआअ

 

वो आये तो खबर देना

वो आये तो खबर देना

भीगे हैं मोरे नैनाआअआआआअ

वो आये तो खबर देना

वो आये तो खबर देना

भीगे हैं मोरे नैनाआअआआआअ

वो उनकी बांसुरी की , वो उनकी कजरी की

वो मेरे लिए सजना भीगे हैं मोरे नैना

 

सशांत चतुर्वेदी

09651477368

धवल चोखाडिया की चार ताज़ा गज़ले

(1)

ये कल भी हुआ था और ये आज भी होगा

तमाशा ईस दुनिया का तेरे बाद भी होगा

 

झूठ बोलने की अदाकारी से थक जाओ अगर

चुप रहके देखो ख़ामोशी में सच भी होगा

 

तालियाँ बजानेवाले हाथ पत्थर भी फेंकते है

तमाशबीनों में कोई तुमसे नाराज़ भी होगा

 

कहानी इतनी आसाँ नहीं तूं अगर समजे तो

अंजाम से पहले कहानी में एक मोड़ भी होगा

 

(2)

बहुत फुर्सत से मिले है मसरूफ लोग

आज बदले हुए से लगते है अपने लोग

 

तुम्हारा गम यहाँ कोई नहीं सुनता है

अपनी ही कहानी सुनाते है तन्हा लोग

 

तक़दीर का लिखा हुआ कहाँ मिटता है

फिर भी तक़दीर से लड़ते है पागल लोग

 

जो प्यार और वफ़ा की बाते करते थे

आज रोज़गार ढूँढ रहे है वही दीवाने लोग

 

बड़ी देर तक जली थी कल रात बस्ती

कल जो थे आज धुआँ हो गए वो लोग

 

(3)

एक बार अपनी सोच पर यकीन कर के देख

आसमां को पाना है तो ज़मीन छोड़ के देख

 

तूफानों में तेरी कश्ती पार हो जायेगी देखना

बस, शर्त यही है की तूं साहिल छोड़ के देख

 

सभी दोस्त है यहाँ, कोई दुश्मन नहीं है तेरा

ज़बान थोड़ी मीठी कर और गुरुर छोड़ के देख

 

इतनी आसानी से ख़ुदा किसी को नहीं मिलता

वो कहेगा मेरे लिए तूं सब कुछ छोड़ के देख

 

(4)

तूं जहां ले जाएगा चलूँगा मैं ख़ुदा

पर कभी हार ना मानूंगा मैं ख़ुदा

 

तेरी फितरत अच्छे से जानता हूँ

तेरी चाल समजने में कच्चा हूँ खुदा

 

जब कभी भी होगा दीदार तेरा

तब अपनी झोली फेला दूंगा ख़ुदा

 

हो सके तो तूं मेरे एब गिना मुझे (एब – दोष)

और बेहतर होता जाऊँगा मैं ख़ुदा

धवल चोखाडिया

शायर और लेखक

शायर और लेखक

बेटी का बलिदान (कविता में कहानी) – अमित कुमार तिवारी

बेटी का बलिदान…

माँ जी लेखिका बनने पे उतारू है
बेटी बडी संस्कारी है
अभिनय करने की तैयारी है
प्रोड्यूसर दामाद की खोज ज़ारी है  1
डेंगू के मच्छर से ज़्यादा
मम्मी के स्कीमो की महामारी हैं
एक्टर होगा तब तक चलेगा
जब तक जेब उसकी भारी है   2
पापा पापकार्न लाने तक सीमित है
सात वचनों की E.M.I. न्यारी है
बेटी का बलिदान ज़ारी है
अब मम्मी बनी व्यापारी है  3
समझाने की कोशिशें
सौ फीसदी बेगारी हैं
श़ौक से चाहे लगे शाक
मम्मी की शान जारी है  4
भाड में जायें शोक संताप
मम्मी जपती सिर्फ स्वार्थ का जाप
डायरेक्टर को कर लिया रेडी
जो न जाने ए बी सी डी  5
कट कापी पेस्ट वाली स्क्रिप्ट पुरानी
वही घिसी पिटी घटिया कहानी
प्रशंसा में छिपी मक्कारी है  6
ट्रीटमेन्ट का गया ज़म़ाना
ऐसी मम्मी से परिवारों  को बचाना
आमदनी जीरो खर्चा डालर का डेली
क्रेडिट कार्ड्स पर कर्जबाजारी है 7
बैठो क्लाइमैक्स अभी बाकी है
दामाद जी की डिमान्ड हुई ठप
हो गया अब वह बैंकरप्ट
पापा की टीचिंग अब नहीं चलती
फ़िल्म हुई डिब्बा बन्द  8
बेटी को डिवोर्स दिलाने के बाद
मम्मी का संघर्ष ज़ारी है
80 पार कर गईं
फिर भी न लौटी समझदारी है  9
इक ही धुन वही घुन
मुई कब बनेगी फ़िल्म
कितनों पर ढाया जुल्म
नहीं है मम्मी को मालूम  10
पापा कह गये अलविदा
द़ीवार पर टंगी उनकी तस्वीर
टेक्नोलजी का कमाल है
पापा जी की स्माइल राज़दार है  11
इक दिन मम्मी ने बेटी से इच्छा जताई
बेटी को बात न रास आई
बोली, हाँ बेटी हूँ तुम्हारी
तभी तो सहती रही सब चुपचाप  12
कभी कुछ कहा हो तो तुम्ही बताओ
अब मम्मी जी आदतों से बाज आओ
उम्र मेरी ढलने वाली है
मुझपे भी कुछ तरस खाओ  13
मम्मी खुश होके बोली
बन्द करो बिटिया ठिठोली
तुम्हारी सीनियोरिटी को ध्यान में रखकर
हमने ख़ुद पर एक स्क्रिप्ट लिख डाली है।  14

बेटी का बलिदान – अमित कुमार तिवारी

मेरा गॉंव मेरा घर – जय शंकर झा

निरंतरता की पराकाष्ठा हो या कुछ पाने की उत्कंठा  पर इंसान है असहाय ही।भूत बदल नहीं सकता,वर्तमान में जीना पड़ेगा और भविष्य के आगे.……???

मेरा गॉंव मेरा घर, ४ शब्द सुनते ही भावनाओं का सागर उमड़ उठता है जिसकी हर लहर हमारे कोमल ह्रदय में नरम नाजुक उन्माद भरती हैं,

धुल में लिपटा लपेटा बचपन, माँ का आँचल ,बापू का प्यार, दादी का निच्छल आगोश,दादा का गैरवमयी कन्धा,काका काकी और न जाने कितने अपनों परायों  का प्यार। इन सबसे अलग खेतो की हरियाली, हवा की खुशबू, मिट्टी  का खिलौना, फूलो का श्रृंगार, कितना सजीव था ये सब! दोस्तों के संग तितलियों जैसे झुण्ड बनाकर चलना या यूँ कहे उड़ना शायद भूल ही चुके हम.

आज के परिवेश में बस कसक बनकर रह गयी वो तमाम यादें , वक़्त के साथ चलते चलते हम भी बहुत  आगे निकल चुके।

हम शायद आज भी अगर फुर्सत के क्षणों में बैठे तो वो रातें ,वो लोरी,कड़ी धुप और पीपल का पेड़,पसीने से लथपथ होकर भी पहरों  अमरुद तोडना, होली का रंग जिसे हमने कभी खुद अपने चेहरे पर लगाया था और ना जाने कई बातें निश्चय ही हमें झकझोर ही देगी पर क्या करे फुर्सत में बैठने  का फुर्सत भी किसके पास है और करे भी तो  क्या करे विकसित होने का कुछ तो कर्ज चुकाना पड़ेगा पर जरा सोचियेगा कहीं हम ज्यादा तो नहीं चुका  रहे हैं.कृत्रिम हवा के ओट में ज़िंदगी के कई रूप कृत्रिम हो गए है।

अब  गॉँव का वो भोलापन,वो सादगी ,स्वछता ,शांति और एक दुसरो को  सहयोग करने की प्रवृर्ति भी नदारद ही मिले. गॉँव के ज़िंदगी पे शहर का जीवनशैली इस कदर हावी होते जा रहा है कि लोग नए नए रंगो में रोज़ ही डूब रहे है. लोगो के बीच वैमनस्यता तो एक रोग की तरह दिनों दिनों बढ़ते  ही जा रही हैं फिर चाहे ये राजनीतिकरण हो या कुछ और.

पर  जो भी हो  इस भागती ज़िंदगी में भी हर दिल के पास हर पल हमेशा होता है ” मेरा गॉंव मेरा घर” और उससे जुडी तमाम यादें जो निश्चय ही हमरे मन को अह्लादित करती है . मगर अपने इस प्यारे गॉंव और उसके सच्चे घर की वास्तविकता को हमें बचाये रखना होगा।

जय शंकर झा
jasjhadbg@gmail.com

लेखक, कवि और गीतकार

लेखक, कवि और गीतकार

मेरी माँ (कविता) – जय शंकर झा

मेरी माँ 

मुश्कान तेरी मुझको दुनिया से प्यारी माँ

आँचल में तेरे है सबकुछ ओ मेरी माँ

ये है मजबूरी मेरी कि  कुछ कर नहीं पाता

चुपचाप तेरी गोदी में यूं ही सो जाता

मेरी माँ, ओ मेरी माँ ,प्यारी माँ,न्यारी माँ। …।

अरमां है इतना सा तुझको हर ख़ुशी दे दू

मगर अपनी बेबसी कैसे मैं  बयां करू

दम घुटता रहता है पर चलता रहता हूँ

इन्ही  सपनो के संग बस  मैं  जीते जाता हूँ

मेरी माँ , ओ मेरी माँ, मेरी  माँ.

तेरी ऊँगली थामकर मैंने  चलना सीखा हैं

तेरे कदमो के तले तो मेरी जीवन-रेखा है

रोने नहीं दूँगा कभी तू ही तो सबकुछ माँ

जीवन  है ये अब क्या तेरी अमानत माँ

मेरी माँ, ओ मेरी माँ ,प्यारी माँ,न्यारी माँ। …।

आँचल में तेरे है सबकुछ ओ मेरी माँ

ये है मजबूरी मेरी की कुछ कर नहीं पाता

चुपचाप तेरी गोदी में यूं ही सो जाता

मेरी माँ ओ मेरी माँ  प्यारी माँ न्यारी माँ। …।

  • जय शंकर झा
    jasjhadbg@gmail.com