Monthly Archives: September 2015

क्या मैं तुम्हे याद आ रहा हूँ? – Prakash H. Patil

तुमसे दूर-

एक अंजान शहर जा रहा हूँ…

मैं तो तुम्हे याद कर रहा हूँ-

क्या मैं तुम्हे याद आ रहा हूँ?

 

यहाँ भी कुछ दोस्त मिले-

न जाने क्यूं मैं उन्हें भा रहा हूँ…

मैं तो तुम्हे याद कर रहा हूँ,

क्या मैं तुम्हे याद आ रहा हूँ?

 

वक्त गुजारने याद में तुम्हारी

गीत वही पुराना गुनगुना रहा हूँ…

मैं तो तुम्हे याद कर रहा हूँ,

क्या मैं तुम्हे याद आ रहा हूँ?

 

तुम्हारे हाथ की खुशबु यहाँ कैसी

जो खाना मिले मैं यहाँ खा रहा हूँ…

मैं तो तुम्हे याद कर रहा हूँ,

क्या मैं तुम्हे याद आ रहा हूँ?

 

करवटे बदलते सोनेकी कोशिश में हूँ,

पर सो नहीं पा रहा हूँ…

मैं तो तुम्हे याद कर रहा हूँ,

क्या मैं तुम्हे याद आ रहा हूँ?

 

प्रकाश पाटील , वसई ९८९०५६०९९९

acres111@gmail.com

 

चिड़िया कैसे बाज़ हुई – प्रशांत टंडन

टकराया फिर दिल से दिल , दिल की ना आवाज़ हुई |
कल तक जो इक चिड़िया थी , आज वो कैसे बाज़ हुई ||१||

ये कैसी है दास्ताँ , मशहूर हुई फिर राज़ हुई |
हम तो कल-कल कहते थे, आज मगर ये आज हुई ||२||

तनहाई की पीर ख़ामोशी, कैसे कब ये साज़ हुई |
आंसू के गिरने की रिमजिम , रिमजिम सी आवाज़ हुई ||३||

मुझसे मिलकर बिछड़ गए वो, किस्मत यूँ नाराज़ हुई |
उनकी याद में हमने जाना , उनकी उम्रदराज़ हुई ||४||

उनके पहलु में जब सर था, हुई फ़कीरी ताज़ हुई |
पायल के जब घुंघरू बोले, रुनझुन सी आवाज़ हुई ||५||

पंख लगे जब सपनों को, तबीयत किसकी नासाज़ हुई |
पंख लगा कर मैंने जाना, चिड़िया कैसे बाज़ हुई || इति ||

प्रशांत टंडन

Prashanttandon789@gmail.com

The Sufi – A Sufi Song by Pradeep Chaturvedi

Sabarmati

 

Parwardigar-e-jindagi

Sabarmati Sabarmati

Parwardigar-e-jindagi de dard ka nuskha

Kalma tere dar pe likha ho  naam ho uska

Tu waste ho jaye mere

Raste khul jaye mere

Sanson mein Sabarmati

Bahon mein bekhudi

Saiyaron mein marhabaa

Parwardigar-e-jindagi de dard ka nuskha

Kalma tere dar pe likha ho  naam ho uska

Parwardigar-e-jindagi

Sabarmati Sabarmati

 

 

Peer mere ankh mein

pyar ka sailab

Jabse wo mujhse mila

Tabse hun betaab

Lag rahi hai sunahri dhop pahlibar

Kar na andhera kabhi  chand mere yaar

Rosni le aayegi   -2

Meri khusi sabarmati

Parwardigar-e-jindagi

Parwardigar-e-jindagi de dard ka nuskha

Kalma tere dar pe likha ho  naam ho uska

 

Darwaje ki darar se

Dekha karo khuda

Ishq ayate-e-tabej hai

Phir bhi nai milta

Na milegi wo mujhe kah rahe hain sabhi

Diwana jata hun jis ghat ko sukh jati hai nadi

Tu khuda barsayega  -2

Mere liye Sabarmati

Parwardigar-e-jindagi

Parwardigar-e-jindagi de dard ka nuskha

Kalma tere dar pe likha ho  naam ho uska

Tu waste ho jaye mere

Raste khul jaye mere

Sanson mein Sabarmati

Bahon mein bekhudi

Saiyaron mein marhabaa

Parwardigar-e-jindagi de dard ka nuskha

Kalma tere dar pe likha ho  naam ho uska

Parwardigar-e-jindagi

Sabarmati Sabarmati

 

 

By: SashantChaturvedi

नयना खो लो साँवरे – सशांत चतुर्वेदी का गीत

जब से जागी है  सुबह प्यारी

खड़ी है तेरे लिए

जब से जागी है  सुबह प्यारी

खड़ी है तेरे लिए

नयना खो लो साँवरे

 

देखे कोई चेहरा मेरा

मै न आउंगी कल

इतनी बेबस प्यार में

घर से आयी निकल

तेरे दर से बूंद भी मिल जाये अगर

नयना धो लूँ साँवरे

नयना खो लो साँवरे

 

इतनी गुजारिस क्या करूँ

बस मान जाओ न

छड आखिरी है सुनहरा

अब जाग जाओ न

सारे फूल खिलने लगे हैं

तेरे मुस्कुराने के बाद

नयना खो लो साँवरे

नयना खोलो साँवरे
प्रदीप चतुर्वेदी ( सशांत )

9651477368

सांवरिया – सशांत चतुर्वेदी का गीत

ओढ़ ले दिल की चादर सांवरिया

महके तन-मन सरफ़रोशी

अंधियारे हैं कजरा रे तेरे

नैना हैं मनमौजी …..

 

दे दे मुझको सुबह सिंदूरी

शाम झूमर सी जल जाये

देख लूँ दुनिया एक ही नजर में

चेहरे का तेरे आईना मिल जाये

भर दे दमन में इश्क़ बादरिया

सांसों में है तेरे खामोसी

अंधियारे हैं कजरा रे तेरे

नैना  हैं मनमौजी ….

 

भोली भाली सूरत तेरी

ओठों पे छाया गुलाबी समां है

दोनों को होश न खबर है

दीवानो की मंजिल कहाँ है

रंग दूँ अपने रंग में चुनरिया

इशारों को कर दूँ फरेबी

ओढ़ ले दिल की चादर सांवरिया

महके तन-मन सरफ़रोशी

अंधियारे हैं कजरा रे तेरे

नैना हैं मनमौजी …..

 

 

Joint Family – Ruma Paul

JOINT FAMILY

By – Ruma Paul

                       Do Joint Families still exist in India? If we ask this question to a mere child of today he/she would say No. Joint Family concept is dying fast today, though it had been part and parcel of our Indian tradition, culture even prosperity. In a Joint family, all members are staying together, giving the power of united “Human Resource” in that family. However there are some demerits also in the concept of a Joint family. Different members, different opinions,instead of being united, they depart from each other.

  “So many cooks spoil the broth”, following the proverb Joint family begins to become nuclear family. Most of the family constitute husband, wife and one or two kids. When those kids grow up due to their higher education/service, they are compelled to separate from their parents. In some families kids are staying separately, husband and wife also have to live separately due to their own work/business. So nuclear family further splits part by part. Being one part of such scattered family I considered myself very unfortunate till this recent experience nourished my soul with the comfort of Joint family.

            A couple of month before, I was invited as an “Anchor” in a function organised by a Guwahati based cultural organisation “Dotara” held at “Paschim Banga Bangla Academy”, Kolkata, on 30th july,2015.

           So I was supposed to board my flight on 29th July from Guwahati Airport. Due to  Arthritis I have to take support of the three pod stick prescribed by Doctor till a knee Replacement surgery is done.

                            For my job I have been living in Shillong. Most of the time I am accompanied by one of my family members or colleagues. But this was the first time when I had to travel alone. I was scared. How would I avail Airbus? How in Kolkata would I walk on the Air Bridge? Who would take care of my luggage from “Baggage Belt”? I might have avoided this call. But I could not resist the honour of being an “Anchor” at this Prestigious Event. Before entering through “Entry Gate” of Guwahati Airport I collected one Trolley and balanced myself with the trolley, holding the stick in my right hand.

As soon as I entered into the Airport after being checked my I.D as well as ticket then and then it seemed to me, as if,  out of blue, one girl appeared in front of me and assisted me extending her helping hand. I took the ticket of “Indigo”. The girl was also holding the batch of Indigo. She herself voluntarily helped me to check my luggage and took me to the counter from where “Boarding Pass” was issued and I asked the counter girl to provide me “wheel Chair”. Everything was done very smoothly. Coming to know that I use to stay in Shillong due to service purpose, she told me with a Sweet smiling face that her house is also in Shillong and she belongs to Khasi Community. Her duty at that time actually was in upstairs but seeing me She came to help. Making me seated before the barricade of physical checking at 12.30hrs (as at that time ,time of physical checking had not started) She requested one boy to help me in  following procedure). My Indigo flight was at 14.15hrs. That boy came to me at 1300hrs. I came to know from his I.D card that his name is “HEMEN  ALI”.He is an “Assamese”.

   With utmost care he did the physical checking, hand bag verification etc. After that he pushed my wheelchair upto that gate from where the passengers of the scheduled flight are to go out. He asked me to be seated in the wheelchair until the announcement of the flight getting ready. But after a while I got scared at the thought “If Hemen won’t come, what would happen?” but surprisingly, Hemen came at 1345 hrs. along with another boy as his duty would be off at 1400hrs. Hemen made that boy understand my condition and requested him to take care of me with greatest sincerity. Hemen requested him in such a way as if I was his mother. I got surprised. My eyes were full of tears. But I controlled myself. Hemen said  “Good Bye, see you again.” He left his duty place unwillingly just like my son or husband who never leave the station until train starts to move. The boy deputed by Hemen  was “Bihari”. He pushed the wheel chair. As I am a lady of heavy weight, it was very much difficult for him to push. I can walk with the stick but not with so much comfort but as the boy was facing difficulty, I asked him, “I can walk with the help of stick but you be with me, just prevent me from falling.” He instantly turned down my suggestion and with a smiling face, facing a lot of difficulties, he made me enter into the flight. Believe me, I could not control myself and began sobbing. Two sweet Airhostess came to me and asked, “Why are sobbing Madam?”. “What’s wrong?”.

“No my dear, All of you are helping me a lot. It seems to me all my near and dear ones are with me, that’s why I have become emotional.”

                With greatest care they made me sit on the chair. When flight reached Kolkata Airport, one Bengali boy came into the flight in front of me with the wheel chair. He himself collected my luggage from the “Baggage Belt”. My husband had been waiting with the vehicle outside the security Zone. That boy helped me board my vehicle, pushing my wheel chair.

    At that very moment I felt that I don’t belong to a nuclear family rather I am one of the members of one huge joint family of 1.5 Billion which is called the nation of India. That family consists of “Khasi girl”, “Assamese boy, like “Hemen Ali”,”Bihari  boy”, Porter who pulled the wheel chair, North Indian like Airhostesses, Bengali boy, Assistant in Kolkata Airport etc. I am grateful to the Almighty that I am an Indian. At that very moment I felt that I came in Kolkata not to be an Anchor for only one programme rather I have been invited for World’s festival.

In Tagore language I can express my gratitude to God,

        Jagate Anandayagye   Amar Nimantran

         Dhanya holo, Dhanyo holo Manabjiban,

 Nayan Amar Ruper Pure  Sadh MItaye Beraye Ghure,

 Sraban Amar Gavir Sure     Hoyechhe Magan,

  Tomar Yagye Diyechho Bhar,  Bajai Ami Banshi

   Gane Gane Genthe Berai Praner Kanna Hansi.

 Ekhon Samay Hoyechhe Ki?   Sabhay giye Tomay Dekhi’

   Joyodhwani Shuniye Yaba e more Nibedon.

Or from Geetanjali it can be expressed in English,

 I have had my invitation to this World’s festival

and thus my life has been blessed. My eyes have seen and my ears have heard.

It was my part at this feast to play upon my

instrument, and I have done all I could.

Now, I ask, has the time come at least when I

may go in and see thy face and offer thee

Silent Salutation?

             After that few days, I got my member-ship Card from Film Writer’s Association. That means I got chance to enter into another very big Joint family. The biggest one where,

  “Nana Bhasa nana Maat Nana Paridhan

Bibidher Majhe Dekho Milano Mahan.”

That is, there are various languages, different opinions, various dresses but there may be differences but one uniformity is that, We all are Indian and meet with each other. I am very much fortunate to be a member of FWA.

 If some work is entrusted on me, being one of the members of a joint family i.e. FWA, I shall try my level best to accomplish that work. If no work is entrusted, then also, there is no problem at all. At that very moment, only I wish that I may be allowed to keep my presence at least in one corner of FWA so that I can get chance to spread the “Fragrance” of this Joint Family i.e. the “Fame  of FWA”.

 In Tagore’s language from Geetanjali it may be said,

 Ami Hethay Thaki Shudhu Gaite Tomar Gaan,

Diyo Tomar Jagat Sabhay Eituku More Sthan,

Ami Tomar Bhubhan-Majhe Lagi Ni Nath, Kono Kaje-

Shudhu Kebal Sure Baje  Akajer ei Pran,

Nishay Neerab Debalaye Tomar Aradhan,

Takhon More Aadesh Koro Gaite He Rajon,

Bhore Yakhon Aakash Jure   Bajbe Beena Sonar Sure

Ami Yeno Na Roi Dure, Ei Diyo More Maan.

Or from Geetanjali,

“I am here to sing thee songs. In this hall of thine,

I have a corner seat.

In thy world I have no work to do; my useless

life can only break out in tunes without a purpose.

When the hour strikes for thy silent worship

at the dark temple of midnight, command me,

my master, to stand before thee to sing.

When in the morning air the golden harp is

tuned, honour me, commanding my presence.”

                   On the basis of the two incidents my feeling is that by any means Joint Family will be continuing to keep its existence.

Writer and Speaker

Writer and Speaker

मेरी चंद और ग़ज़ले २ – धवल

(5)

हो सके तो आज एक गुस्ताखी कर दो
सब को मुंह पे तुम सच सच कह दो

क्यूँ अंदर ही अंदर अलाव जलाये रखे
अपने घर को छोड़के पूरा शहर जला दो

बहरी ख्वाइशो को कुछ करतब देखने है
अधूरे अरमानो की गूंगी चीख सुना दो

तल्खियाँ बढ़ी इतनी के मैं ज़हर हो गया
ढूँढो कोई मीरा उसे ये ज़हर पीला दो

(6)

दुनिया को देखकर पछता रहे है
देखो मुसाफिर घर को लौट रहे है

जिन्होंने मिलकर इंट से इंट लगाई थी
वही लोग आज घर को जला रहे है

तूफानों से लड़कर भी मैं खामोश हूँ
कुछ लोग साहिलों पे चिल्ला रहे है

ये अदाकारी हम से ना हो पाएगी
जीनको रोना है वो मुस्कुरा रहे है

यहाँ हर ज़ानिब तन्हाई का दश्त है
लोग अपने ही सायो से गभरा रहे है


(7)

बस हमसे वो भुलाना रह गया
आँखों में एक ज़माना रह गया

बहुत दूर मिलो तक चला हूँ
उनके दिल में जाना रह गया

मैंने सारी रवायते फूंक दी है
कडवा सच जलाना रह गया

किसी से कोई उम्मीद नहीं है
मेरे सामने आईना रह गया

क्यूँ न चीखे हो मेरे शेर में
एक आंसू जो बहाना रह गया

(8)

ये काम भी तमाम हो जाए तो अच्छा है
आज जिंदगी भी ख़त्म हो जाए तो अच्छा है

तेरे राज़दार से कोई गिला नहीं है मुझको
आज सारे राज़ सरेआम हो जाए तो अच्छा है

दोस्ती और दुश्मनी बड़े अदब से निभाई है
सारे रिश्तो से आज़ाद हो जाए तो अच्छा है

एहसान को गिनाना मेरी फितरत में नहीं है
तू अपनी एहसान फरामोशी समजे तो अच्छा है

कमज़ोर हो गई है उजड़े हुए घर की दिवारे
आनेवाले सैलाब में ये मिट जाए तो अच्छा है

गर जिंदगी शतरंज है तो मैं भी चाल चलूँगा
मुझे बच्चा समजने वाले, समज जाए तो अच्छा है

(9)

हँसते हुए ही हम अच्छे है
उदासियाँ लेकर क्यूँ बैठे

ज़माने की फिक्र किसको है
शिकायते लेकर क्यूँ बैठे

जो होना था सो हो गया
पछतावा लेकर क्यूँ बैठे

ये रात बड़ी लम्बी होगी
दो जाम और लेकर बैठे

फिर रंग चढ़ेगा हर ज़ख्म
ज़रा हौसला लेकर बैठे

तजुर्बे ज़ख्मो से मिलते है
तो किताबे लेकर क्यूँ बैठे

जिंदगी एक जश्न होती है
मायूस गीत लेकर क्यूँ बैठे

जाने से पहले एक आरज़ू है
दो पल तेरे पहलू में बैठे

(10)

जीने के माईने ढूंढे ग़ज़ल में
हर दर्द की दवा ढूंढी ग़ज़ल में

जो तन्हा अंधेरो में खोये थे
मैंने वो आंसू ढूंढे ग़ज़ल में

दुनिया दुश्मनो से भरी पड़ी है
मैंने कुछ दोस्त ढूंढे ग़ज़ल में

चाँद के पार अब जो रहते है
बिछड़े हुए लोग ढूंढे ग़ज़ल में

मंदिर मस्जिद जाके थक गया
मैंने खुदा को ढूंढा ग़ज़ल में

दिल कुछ इस तरह टुटा था
मैंने रोज़गार ढूंढे ग़ज़ल में

सिर्फ किताबी बाते नहीं करता
खुद के तजुर्बे ढूंढे ग़ज़ल में

(11)

वो मेरे ज़ख्म को कुरेदता रहा मौका देखकर
मैं भी मुस्कुराता रहा उसकी नियत देखकर

चोट कुछ ऐसी लगी है, ये ता-उम्र रहेगी
मेरे अपने ही हँसते रहे मुझे बर्बाद देखकर

बड़ी दीवारों के पीछे कुछ गमख्वार रहते है
ख़ुशी का अंदाजा मत लगाओ महल देखकर

पहले दिल में एक बच्चे सी मासूमियत थी
अब दिल भी मायूस हो गया दुनिया देखकर

ठोकरों से बचो मत, एक बार गिर के देखो
राहें भी सलाम करेगी तुम्हारा हौसला देखकर

(12)

मुझसे मत पूछ मैंने क्या क्या मंज़र देखे है
मेरी ही पीठ के पीछे अपनों के खंजर देखे है

तिश्नगी-ए-मंज़िल से खानाबदोश हो गया हूँ
प्यास बुझानी चाही तो सुखते समंदर देखे है (तिश्नगी – प्यास)

बेवजह है तेरी ताजो तख़्त की तमन्ना भी
यहाँ सब ने खाली हाथ मरते सिकंदर देखे है

बड़ा मुश्किल है किसी की नियत पहचानना
कुछ लोगो को जलते हुए अंदर ही अंदर देखे है

(13)

जब दिल के आंसू पलकों पर आ जाते है
पल में बीते मौसम लौट के आ जाते है

अपने ज़ज्बातो को मैं कैसे कर संभालू ?
जब चीख रोकता हूँ तो आंसू आ जाते है

एक बात समजा हूँ मैं अपनी जिंदगी से
हर तजुर्बे जिंदगी में काम आ जाते है

एक पल भी रुकने की मोहलत नहीं है
जब भी रुकना चाहो तो मोड़ आ जाते है

(14)

तुम्हारी बातो में तुम्हारा सच है
एक बार मुझे मेरा सच ढूंढने दो

मशालो की कोई ज़रुरत नहीं है
एक चिंगारी से दश्त को जलने दो

जब तक़दीर तुम पर मेहरबान हो
तब औरो को सिफारिश से बढ़ने दो

अब दिल में कोई तल्खियाँ नहीं है
अब दिल को चैन से धडकने दो

शायर और लेखक

शायर और लेखक

 

 

 

 

 

 

 

 

dhaval.chokhadia@gmail.com

(Mo) – 9979739104

कहां खडी है हिंदी ? – रूद्रभानु प्रताप सिंह

कहां खडी है हिंदी?
लेखक – रुद्रभानु प्रताप सिंह

‘हिंदी को डरने की जरूरत नहीं है, अंग्रेज़ी के बाद पूरे विश्व में यह सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है। यह स्पेनिश और चीनी भाषा से आगे निकल गई है। पिछले ५० साल में विश्व में हिंदी भाषियों की संख्या २६ करोड़ से बढ़कर ४९ करोड़ और अंग्रेज़ी बोलने वालों की संख्या ३३ करोड़ से बढ़कर ५१ करोड़ हो गई है। हिंदी की वृद्धि दर अंग्रेज़ी से ज़्यादा है। साहित्य और बोलचाल की भाषा से आगे निकल कर हिंदी अब बाजार की भाषा बन गई है। अब अरबों रुपये के व्यवसाय का माध्यम बन गई है हिंदी।’ यह आंकड़ा पिछले दिनों एक चर्चित वेबसाइट ने प्रकाशित की। इसके बावजूद इस बात की पड़ताल करने की जरूरत है कि भूमंडलीकरण, उदारीकरण और सूचना-तकनीक के इस युग में हिंदी कहां खड़ी है?

इस बात को परखने के लिए हम दिल्ली के लोधी रोड पर स्थित एनटीपीसी के विशाल कॉरपोरेट कार्यालय पहुंचे। ऑफिस में घुसने के बाद लिफ्ट के सहारे हम तीसरे फ्लोर पर पहुंचे। वहीं बायीं तरफ राजभाषा अधिकारी का कार्यालय है। अन्य विभागों की तुलना में यहां काफी शांति थी। दो-तीन कर्मचारी बड़ी निश्चिंतता से अपने कंप्यूटर पर बैठे थे। कार्यालय के एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ने हमारा परिचय पूछा। जब हमने राजभाषा अधिकारी के बारे में पूछा, तो उसने बताया कि राजभाषा अधिकारी छुट्टी पर हैं। वह कर्मचारी अभी हमें कुछ और बता ही रहा था कि हमारे साथी ने सवाल कर दिया- ‘यहां इतनी शांति क्यों है? क्या राजभाषा अधिकारी नहीं हैं, इसीलिए।’ जवाब देते समय कर्मचारी थोड़ा मुस्कुराया और बोला ‘अरे नहीं, ऐसा नहीं है। यहां हलचल तब होती है, जब हिंदी पखवारा शुरू होता है। हिंदी दिवस से लेकर पूरे पंद्रह दिन कार्यालय के सभी लोग व्यस्त रहते हैं। कोई पोस्टर छपवाने में, तो कोई कार्यक्रम की तैयारी करने में। इन दिनों मेरी व्यस्तता भी बढ़ जाती है। रोज कार्यक्रम होते हैं, कविता, कहानी, निबंध प्रतियोगिता और न जाने क्या-क्या। फिर पखवारा खत्म, तो काम भी खत्म। १४ सितंबर आने वाला है, आप लोग भी आइएगा…. देखिएगा कैसी रौनक रहती है…. वैसे यह बात मैं सिर्फ आप लोगों को बता रहा हूं, किसी और से मत कहिएगा।’ ‘पक्का किसी से नहीं कहेंगे।’ यह कह कर हमलोग वहां से निकल गए। धीरे-धीरे हमलोग मेट्रो की तरफ बढ़े। दोपहर का समय था, शायद इसी वजह से मेट्रो में भीड़ नहीं थी। सीट पर बैठे और बगल वाले से बतियाना शुरू कर दिया। संयोग से उसकी समस्या और हमारी पड़ताल की दिशा एक ही निकली। उसका नाम था मनोज। स्नातकोत्तर करने के बाद वह नौकरी की तालाश में है, मगर अंग्रेजी उसके लिए मुसीबत बन गई है। उसने बताया कि आज एक नौकरी के लिए उसका साक्षात्कार था। साक्षात्कार में सब कुछ तो ठीक था, मगर मुझे सिर्फ इस अधार पर अयोग्य करार दे दिया गया कि मैं अंग्रेजी ठीक से नहीं बोल पाता। वे बोले कि मेरी अंग्रेजी की समझ ठीक नहीं हैं, इसलिए मैं ठीक ढंग से काम नहीं कर पाऊंगा। यही नहीं, बैंक, एसएससी, यूपीएससी हर परीक्षा का यही हाल है। सब में अंग्रेजी अनिवार्य है। हिंदी के नाम पर लोग बड़ी-बड़ी बातें भले कर लें, लेकिन देश में इसकी क्या औकात है, यह बताने की जरूरत नहीं है। ‘मैंने हिंदी माध्यम से पढ़ाई करके बहुत बड़ी गलती कर दी।’

मनोज के बाद हमारी मुलाकात सचिन से हुई। बिहार के रहने वाले सचिन हिंदी माध्यम से सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। सचिन ने बताया कि हिंदी माध्यम से तैयारी करना आसान नहीं है। अंग्रेजी माध्यम वालों की तुलना में हमें पाठ्य-सामग्री को लेकर खासी परेशानी होती है। हिंदी में वह सामग्री नहीं मिल पाती, जो अंग्रेजी में उपलब्ध है। सिर्फ किताबें ही नहीं, हिंदी माध्यम में शिक्षकों की भी कमी है। ऊपर से सरकार की नीति ऐसी है कि उसका शिकार भी हिंदी माध्यम वाले ही हो रहे हैं। पिछले पांच सालों के यूपीएससी के रिजल्ट पर यदि नजर डालें, तब पता चलता है कि हिंदी माध्यम से परीक्षा देने वालों के पास प्रतिशत में कितनी जबरदस्त गिरावट आई है। इसके बाद हमारी मुलाकात न्यायालयों में हिंदी में सुनवाई के लिए आंदोलन कर रहे श्याम रुद्रपाठक से हुई। अभी कुछ दिन पहले ही वह जेल से रिहा हुए हैं। कहां खड़ी है हिंदी? इस प्रश्न के जवाब में पहले वह गंभीर हो गए, फिर कहा कि जब देश में अपनी भाषा में न्याय मिलना ही मुश्किल है, तो फिर इस प्रश्न का क्या उत्तर दिया जाए कि हिंदी कहां खड़ी है? हिंदी सिर्फ गरीबों की भाषा है। देश का शासक वर्ग तो अंग्रेजीयत मानसिकता में जीता है। न्यायालयों में जब न्यायाधीश फैसला सुनाते हैं, तो सामान्य वादी और प्रतिवादी यह समझ ही नहीं पाते कि फैसला उनके पक्ष में आया है या विपक्ष में। पूरी न्यायिक प्रक्रिया अंग्रेजी में होती है, जो आम आदमी की समझ से परे है। वकील ही लोगों को समझाते हैं कि आप मुकदमा जीत गए या हार गए। देश में सिर्फ दो से तीन फीसदी लोग ही अंग्रेजी बोल और समझ पाते हैं, फिर भी हिंदी के साथ इस तरह का व्यवहार समझ से परे है।

आईटीओ में चाय की एक दुकान पर केंद्रीय विद्यालय के पूर्व प्रधानाचार्य डॉ. मदनमोहन मिश्र से जब यह प्रश्न किया कि हिंदी कहां खड़ी है, तो वह भड़क गए और बोले, ‘आप लोग हिंदी दिवस पर हिंदी की आरती उतारते हैं और तिलक अंग्रेजी के माथे पर लगाते हैं। संयुक्त राष्ट्र में हिंदी हमारी नाक होती है और स्वराष्ट्र में उसी नाक को हम अंग्रेजी के जूतों पर रगड़ते रहते हैं। राजभाषा के साथ जैसा छल-कपट भारत में होता है, वैसा दुनिया के किसी भी देश में, किसी भी भाषा के साथ नहीं होता। उसका ओहदा महारानी का है और काम वह नौकरानी का करती है। दुर्योधन के दरबार में उसे द्रौपदी की तरह घसीटा जाता है और भारत के बड़े-बड़े योद्धा – जनवादी कॉमरेड, लोहियावादी नेतागण, संघी संचालकगण, भाजपा के हिंदीवीरों, गांधी की माला जपने वाले कांग्रेसियों और सर्वोदयियों तथा दयानंद के शिष्यों- सभी के मुंह पर ताले लगे रहते हैं। वे बगलें झांकते हैं और खीसें निपोरते हैं। मैं अंग्रेजी का विरोधी नहीं हूं। किसी भाषा या साहित्य से कोई मूर्ख ही नफरत कर सकता है। कोई स्वेच्छा से कोई विदेशी भाषा पढ़े, बोले, लिखे, इसमें क्या बुराई है? जो जितनी अधिक भाषाएं जानेगा, उसके लिए संपर्कों, सूचनाओं, अनुभूतियों और अभिव्यक्तियों की उतनी ही अधिक खिड़कयां खुलेंगी, लेकिन भारत में कुछ अजीब-सा खेल चल रहा है। स्वदेशी भाषाओं और बोलियों के सारे दरवाजे बंद किए जा रहे हैं और विदेशी भाषाओं की सारी खिड़कियां खोली जा रहीं हैं। इस खिड़की का नाम अंग्रेजी है। अगर आप अंग्रेजी नहीं जानते तो कुछ नहीं जानते हैं।’

इनकी बातों के अलावा दूसरा पहलू भी है। हिंदी पर भारत की ३५ लाख करोड़ की अर्थव्यवस्था का आधा हिस्सा टिका हुआ है। यानी अर्थव्यवस्था का आधा भाग हिंदी भाषी क्षेत्र में है। इतना ही नहीं, २९ हजार करोड़ का टीवी कारोबार भी इसी भाषा पर टिका है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अब तो अंग्रेजी चैनल भी हिंदी के विज्ञापन दिखाने लगे हैं और बीबीसी, स्टार, सोनी, एम टीवी, डिस्कवरी, नेशनल ज्योग्राफी, हिस्ट्री जैसे अनेक चैनलों ने हिंदी में अपने प्रसारण आरंभ कर दिए हैं। भारत जैसे देश में जहां पढ़े-लिखों की संख्या सिर्फ ४८ करोड़ है, वहां १८ करोड़ लोग रोजाना हिंदी का अखबार खरीदते हैं। दुनिया की सबसे बड़ी फिल्म इंडस्ट्री भी हमारे यहां हैं, जहां सालाना ६०० नई फिल्में बनतीं हैं। इनमें हिंदी की लगभग १५० फिल्में शामिल हैं, जिससे हजारों करोड़ रुपये का कारोबार होता है। बदलते परिवेश में हिंदी ने भी अपने स्वरूप को परिवर्तित किया है। इंटरनेट पर हिंदी की बेबसाइटों में बढ़ोत्तरी हो रही है। इंटरनेट पर हिंदी में कार्य-संस्कृति का विकास लगातार जारी है। हिंदी में लिखने के लिए सी-डैक ने नि:शुल्क सॉफ्टवेयर जारी किया है, जिसमें अनेक सुविधाएं उपलब्ध हैं। माइक्रोसॉफ्ट ने ऑफिस हिंदी के जरिए भारतीयों के लिए कंप्यूटर का प्रयोग आसान कर दिया है। आईबीएम द्बारा विकसित सॉफ्टवेयर में हिंदी भाषा के ६५,००० शब्दों को पहचानने की क्षमता है। इंटरनेट पर ५०,००० से भी ज्यादा हिंदी ब्लॉग हैं। गूगल से हिंदी में जानकारियां धड़ल्ले से खोजी जा रही हैं। हिंदी यूनीकोड के विकास ने सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर हिंदी लिखना आसान बनाया है। आगे भी यह विकास लगातार जारी है। मगर सवाल अब भी वही है कि इन सब के बीच कहां खड़ी है हिंदी?

लेखक - पत्रकार

लेखक – पत्रकार

MAASUMON KA JANAZA – Kumar Rajiv Ranjan

Har harf me ho raha dard ye wo manzar hai…
Nanhe jism ko bhi berahmi se chir daale ye kaisa khanjar hai
Sharmsaar hua insaan… ye kin ke paapon ka khamiaza hai
Nazar utha ke dekho ye MAASUMON KA JANAZA HAI…

Shok me dooba ye jahan aur dar se sehma badan
Dafn huii saari insaniyat jab masoom odh chuke kafan…
Har aankh me hain aansoo… fir bhi krodh zyada hai
Nazar utha ke dekho ye MAASUMON KA JANAZA HAI…

Na kahin afsos hai… na hin sharmindagi…
Guzar rahi jo gunaahon me ye kaisi hai zindagi…
Ab har rooh cheekh rahi…ab har zakhm taza hai…
Zara Nazar utha ke dekho ye MAASUMON KA JANAZA HAI…”

Scriptwriter, Poet & Novelist

Scriptwriter, Poet & Novelist